हो तिमिर कितना भी गहरा;
हो रोशनी पर लाख पहरा;
सूर्य को उगना पड़ेगा,
फूल को खिलना पड़ेगा।

हो समय कितना भी भारी;
हमने ना उम्मीद हारी;
दर्द को झुकना पड़ेगा;
रंज को रुकना पड़ेगा।

सब थके हैं, सब अकेले;
लेकिन फिर आएंगे मेले;
साथ ही लड़ना पड़ेगा;
साथ ही चलना पड़ेगा।

रामधारी सिंह दिनकर

Positives

  • +

Negatives

  • -
Related posts
कहानी एवं लेखहिन्दी साहित्य

छोटी छोटी मगर मोटी बाते....

हर एक व्यक्ति को अपने देश से प्यार…
Read more
कहानी एवं लेखहिन्दी साहित्य

पीपीइ कि ट वाला भतू (भतिूतिया कहानी)

सारा गाँव सोया हुआ था|लेकि न कुमार जग…
Read more
काव्यहिन्दी साहित्य

हम मतलबी है!

हम मतलबी है! पता है हम लोग इतने दुखी और…
Read more

Leave a Reply

%d bloggers like this: