A male standing on a cliff with a yellow and cloudy sky in the background
अछान्दसहिन्दी साहित्य

माना मेरे बाद…

माना मेरे बाद जिंदगी में तुम्हारी आएगा कोई,
खाकर बताओ कसम क्या मेरे जैसा चाहेगा कोई ।

सेहरा प्यार का सिर पर बांधता तो है हर कोई,
बाइज्जत घूंघट तेरा उठा पाएगा कोई ।

कहने को तो रखता है हर घड़ी खयाल हर कोई
क्या खयालों में भी तुम्हारा खयाल रखेगा कोई ।

करना पड़ेगा इश्क किसी से जात और नात के नाम पर,
क्या मुझसे करते हो ऐसा प्यार पा सकेगा कोई ।

सात फेरे लेना कौन सी बड़ी बात है,
तसव्वुर कर के बताओ मेरे जैसे निभा सकेगा कोई ।

  • अंजाम

Related posts
काव्यहिन्दी साहित्य

खामोशी

बारिश की बूंदों में है एक खामोशी,हवा…
Read more
काव्यहिन्दी साहित्य

डूबो कर

दर्द-ए-दिल, ज़ख्म-ओ-ग़म ढो कर,क्या ह…
Read more
गझलहिन्दी साहित्य

क्यूँ नहीं जाता?

तू जो  करना  चाहता  है  कर क्यूँ  नहीं…
Read more

Leave a Reply

%d bloggers like this: